Secondary Education

सैलरी अकाउंट से मिलने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं.

Salary Account Benefits: अगर आप भी सैलरी अकाउंट (Salary Account) का इस्तेमाल करते हैं तो आपको कुछ चीजों को जान लेना जरूरी है. किसी ऑर्गेनाइजेशन में काम करने के दौरान कर्मचारियों के लिए सैलरी अकाउंट को खोला जाता है. लेकिन क्या आपको पता है कि सैलरी अकाउंट से आपको बैंक की तरफ से कितने सारे बेनिफिट्स मिलते हैं. हर कर्मचारी के नाम से सैलरी अकाउंट होता है, जिसका संचालन उसे खुद करना होता है.

सैलरी अकाउंट पर लागू होने वाले नियम बाकी सेविंग्स अकाउंट से बिल्कुल अलग होते हैं. सैलरी अकाउंट में कोई न्यूनतम बैलेंस की जरूरत नहीं होती है, लेकिन अगर आपने नौकरी छोड़ दी है किसी कारण तीन महीने तक उस अकाउंट में सैलरी क्रेडिट नहीं 

सैलरी अकाउंट वो अकाउंट है, जिसे कंपनी की तरफ से खोला जाता है. इसमें हर महीने आपकी सैलरी क्रेडिट होती है. सैलरी अकाउंट को भी एक तरह का सेविंग्‍स अकाउंट कहा जा सकता है, इसमें भी आपको चेकबुक, एटीएम, नेटबैंकिंग, क्रेडिट कार्ड आदि सुविधाएं दी जाती हैं. लेकिन फिर भी ये सामान्‍य सेविंग्‍स अकाउंट से थोड़ा सा अलग होता है. दरअसल, सैलरी अकाउंट में आपको कई ऐसे फायदे मिलते हैं, जो सामान्‍य सेविंग्‍स अकाउंट से नहीं मिल पाते है. आज की इस खबर में हम आपको सैलरी अकाउंट से मिलने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं.

जीरो बैलेंस सुविधा 

सैलरी अकाउंट पर लोगो को जीरो बैलेंस की सुविधा मिलती है. अगर तीन महीने तक आपके अकाउंट में जीरो बैलेंस रहता है, तो बैंक आप पर किसी तरह का जुर्माना नहीं लगाता है. जबकि सामान्‍य सेविंग्‍स अकाउंट में मिनमिम बैलेंस मेंटेन करना जरूरी होता है. ऐसा न करने पर पेनाल्‍टी देनी पड़ती है. 

ATM से फ्री ट्रांजेक्‍शंस

कई बैंक सैलरी अकाउंट पर फ्री एटीएम ट्रांजैक्‍शन की सुविधा देते हैं. इसमें बैंक में एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक आदि के नाम शामिल हैं. ऐसे में, आपने एटीएम से महीने में कितनी बार ट्रांजेक्‍शन किया है, इसको लेकर आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है. इसके साथ ही, सैलरी अकाउंट के एटीएम पर सालाना चार्ज नहीं लिया जाता है.

लोन की सुविधा

सैलरी अकाउंट पर आपको पर्सनल लोन, कार लोन या होम लोन आदि लोन आसानी से मिल जाता है क्‍योंकि इस तरह के लोन के साथ बैंक को रिस्‍क का खतरा कम रहता है. Salary account और स्टेटमेंट आपकी सैलरी का प्रामाणिक डॉक्यूमेंट होता है. इसके लिए डॉक्‍यूमेंट्स के वेरिफिकेशन का काम भी आसानी से हो जाता है. 

वेल्थ सैलरी अकाउंट

अगर आपके पास बहुत अधिक पैसा है तो आप वैल्थ सैलरी अकाउंट भी खुलवा सकते हैं. इस तरह के अकाउंट में बैंक आपको डेडिकेटिड वेल्थ मैनेजर भी देता है, जो बैंक से जुड़े आपके तमाम कामों की देखरेख करता है. 

लॉकर चार्ज पर छूट

कई बैंक्‍स सैलरी अकाउंट पर लॉकर चार्ज में छूट देते हैं. अगर एसबीआई की बात करें तो बैंक सैलरी अकाउंट पर लॉकर चार्ज में 25 फीसदी तक की छूट मिलती है, लेकिन अगर आपके बैंक को पता चलता है कि कुछ समय से आपके अकाउंट में सैलरी नहीं आ रही है तो आपको मिली सभी सुविधाएं वापस ले ली जाती हैं. ऐसे में, आपके बैंक अकाउंट को नॉर्मल सेविंग्स अकाउंट की तरह ही जारी रखा जाता है.

अन्य सुविधाएं

आपके सैलरी अकाउंट पर आपको फ्री में चेकबुक, पासबुक, नेटबैंकिंग की सुविधा मुफ्त में मिलती है. इसके साथ ही सैलरी क्रेडिट होने के एसएमएस का कोई चार्ज नहीं लिया जाता है.

admin

Up Secondary Education Employee ,Who is working to permotion of education

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *