Secondary Education

प्रबंध समिति सचिव रंजीत जैन महिला शिक्षिकाओं के बाथरूम में सीसीटीवी कैमरे लगाकर अश्लील फोटो व वीडियो देखते हैं

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर के ऋषभ एकेडमी के गर्ल्स बाथरुम में हिडन कैमरा लगाकर शिक्षिकाओं को चोरी-छिपे देखने का मामला सामने आया है। एकेडमी की शिक्षिकाओं ने इस मामले में स्कूल से लेकर सदर थाने तक हंगामा भी किया। एकेडमी की 52 शिक्षिकाओं की संयुक्त शिकायत पर थाना सदर बाजार पुलिस ने ऋषभ एकेडमी की प्रबंध समिति सचिव और उनके बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर घटना की जांच शुरु कर दी है। हालांकि पुलिस की प्रारंभिक छानबीन में गर्ल्स बाथरुम में कोई हिडन कैमरा नही मिला है।

ऋषभ एकेडमी की 52 शिक्षिकाओं ने संयुक्त रुप से एक शिकायत की है

थाना सदर बाजार प्रभारी विजय गुप्ता के अनुसार सदर क्षेत्र के कैंट स्थित ऋषभ एकेडमी की 52 शिक्षिकाओं ने संयुक्त रुप से एक शिकायत की है। आरोप है कि स्कूल की प्रबंध समिति के सचिव रंजीत जैन और उनके बेटे अभिनव जैन शिक्षिकाओं से अभद्रता करते हैं। महिलाओं के बाथरूम में सीसीटीवी कैमरे लगाकर अश्लील फोटो व वीडियो निकालते हैं। शिक्षिकाओं को ब्लैकमेल किया जाता है। शिक्षिकाओं का यह भी आरोप है कि प्रबन्धन द्वारा उन पर तंत्र-मंत्र का प्रयोग भी किया जाता रहा है। थाना प्रभारी के अनुसार इस मामले में रंजीत जैन और उनके बेटे अभिनव जैन के खिलाफ आईपीसी की धारा ३५४ ए,३५४ सी व ५०६ में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने स्कूल में जाकर इस प्रकरण की जांच भी की है।

एएसपी कैंट ईरज राजा का कहना है

एएसपी कैंट ईरज राजा का कहना है कि पिछले करीब पाच-छह महीने से स्कूल बंद है। इससे जहिर है ‌कि आरोप भी पुराने है।फिलहाल,मौके पर जांच के लिए गई पुलिस को कोई हिडन कैमरा नही मिला है। थाना प्रभारी के अनुसार गर्ल्स बाथरुम में तो ही अलबत्ता,पुरुष शौचालय के बाहर एक सीसीटीवी कैमरा जरुर लगा हुआ मिला है। स्कूल परिसर में लगे सभी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखी गई है। तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर मामले की बारीकी से जांच हो रही है। जांच में दोषी पाए जाने पर नामजद दोनों आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। । पुलिस की प्राथमिक जांच में स्कूल में शिक्षिकाओं की सैलरी को लेकर विवाद है।

उधर,इस मामले में व्यापारी और सामाजिक संगठन भी शिक्षिकाओं के पक्ष में आ गए हैं। यथार्थ के सारथी संस्था की अध्यक्ष जूही त्यागी ने संस्था पदाधिकारियों के साथ मिलकर घटना की जांच की मांग को लेकर एएसपी,मेरठ को ज्ञापन सौंपा है। मेरठ व्यापार मंडल के जिला प्रमुख शैंकी वर्मा ने बताया कि शिक्षिकाओं के आरोप बेहद गंभीर है मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और ऋषभ एकेडमी की मान्यता रद्द होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वें इस मामले को लेकर वे आज जिलाधिकारी से मिलेंगे।

admin

Up Secondary Education Employee ,Who is working to permotion of education

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *