Secondary Education

प्रधानमंत्री जन विकास योजनान्तर्गत जनपदों के प्राइमरी स्कूलों में फर्नीचर की व्यवस्था हेतु धनराशि के व्यय के सम्बन्ध में 

प्राइमरी विभिन्‍न जनपदों के प्राइमरी स्कूलों में शासनादेशों में निहित व्यवस्थान्तर्गत फर्नीचर की व्यवस्था हेतु धनराशि की स्वीकृति की गयी थी, जिसके क्रम में वित्तीय वर्ष 2022-23 में अल्पसंख्यक कल्याण निदेशालय के आदेश दिनांक 27 मार्च, 2023 द्वारा बेसिक शिक्षा विभाग को पी0एफ0एम0एस0 पोर्टल पर केन्द्रांश एवं राज्यांश की कुल धनराशि रू0 १ी46939 लाख की लिमिट निर्गत की गयी थी। उक्त लिमिट का व्यय सम्बन्धित वित्तीय वर्ष में न होने के कारण वित्तीय वर्ष समाप्ति के उपरान्त लिमिट स्वत: शून्य हो गयी। तदौपरान्त अल्पसंख्यक कल्याण निदेशालय के आदेश दिनांक 27 अप्रैल, 2023 द्वारा पुनः धनराशि रू0 746.940 लाख की री-लिमिट का निर्धारण पोर्टल पर किया गया।अपर प्राइमरी स्कूलों में फर्नीचर की व्यवस्था हेतु सम्बन्धित जनपदों को री-लिमिट जारी करते हुए उसे तत्काल नियमानुसार व्यय करने के निर्देश दिये गये थे। प्रधानमंत्री जन विकास कार्यकम के अन्तर्गत जनपद स्तर पर खोले गये इण्डियन बैंक के सबिडियरी एकाउण्ट संख्या के सापेक्ष स्कूलों में फर्नीचर कय हेतु जनपद सीतापुर हेतु धनराशि कुल रू0 70,56,000-00 (रूपये सत्तर लाख छप्पन हजार मात्र) की री-लिमिट जारी की गयी। इस सम्बन्ध में निदेशालय द्वारा समय-समय पर निर्गत विभिन्‍न पत्रों, दूरमाष एवं समीक्षा बैठक के माध्यम
से उक्त परियोजना हेतु आपको जारी की गयी री-लिमिट की धनराशि के सापेक्ष प्राइमरी स्कूलों में फर्माचर कय,/आपूत्ि की कार्यवाही शीघ पूर्ण कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया है। परन्तु परन्तु री-लिमिट जारी हुए लगभग 08 माह व्यतीत हाने के उपरान्त भी अभी तक आपके द्वारा उक्त परियोजना हेतु कोई व्यय नहीं किया जा सका ह सम्यक्‌ विचारॉप्रान्त यह निर्णय लिया गया है कि प्रधानगत्री जन विकार! योजना परियोजना हेतु जारी की गयी उक्त री-लिगिट की धनराशि को अल्पसंख्यक कल्याण निदेशालय लखनऊ को समर्पित कर दिया जाये, जिसरों कि उक्त धनराशि का किसी अन्य परियोजना हेतु सदुफ्योग किया जा सके (

नीट की परीक्षा देने वालों के काम की खबर

परिचय

प्रधानमंत्री जन विकास योजना (PMJDY) भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक सामाजिक सुरक्षा योजना है। इस योजना के तहत, सरकार देश के सभी नागरिकों को बैंकिंग, बीमा, और पेंशन जैसी वित्तीय सेवाओं तक पहुंच प्रदान करने का प्रयास कर रही है।

PMJDY के तहत, सरकार देश के सभी प्राथमिक स्कूलों में फर्नीचर की व्यवस्था करने के लिए भी धनराशि प्रदान कर रही है। इस धनराशि का उपयोग स्कूलों में डेस्क, कुर्सियां, टेबल, और अन्य फर्नीचर की खरीद के लिए किया जा सकता है।

धनराशि का व्यय

प्रधानमंत्री जन विकास योजनान्तर्गत जनपदों के प्राइमरी स्कूलों में फर्नीचर की व्यवस्था हेतु धनराशि का व्यय निम्नलिखित चरणों के अनुसार किया जाना चाहिए:

  1. स्कूलों की पहचान: पहले चरण में, संबंधित जिला प्रशासन को अपने जिले के सभी प्राथमिक स्कूलों की पहचान करनी चाहिए।
  2. स्कूली जरूरतों का आकलन: दूसरे चरण में, प्रत्येक स्कूल की फर्नीचर की जरूरतों का आकलन किया जाना चाहिए।
  3. खरीदारी प्रक्रिया: तीसरे चरण में, फर्नीचर की खरीद प्रक्रिया शुरू की जानी चाहिए।
  4. वितरण: चौथे चरण में, फर्नीचर स्कूलों में वितरित किया जाना चाहिए।

फर्नीचर की खरीद के लिए मानक

प्रधानमंत्री जन विकास योजनान्तर्गत जनपदों के प्राइमरी स्कूलों में फर्नीचर की खरीद के लिए निम्नलिखित मानक निर्धारित किए गए हैं:

  • डेस्क: डेस्क की ऊंचाई 30 सेंटीमीटर से 34 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए। डेस्क की चौड़ाई 45 सेंटीमीटर से 60 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए। डेस्क की लंबाई 120 सेंटीमीटर से 150 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए।
  • कुर्सी: कुर्सी की ऊंचाई 30 सेंटीमीटर से 34 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए। कुर्सी की चौड़ाई 30 सेंटीमीटर से 45 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए। कुर्सी की लंबाई 40 सेंटीमीटर से 50 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए।
  • टेबल: टेबल की ऊंचाई 60 सेंटीमीटर से 70 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए। टेबल की चौड़ाई 120 सेंटीमीटर से 150 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए। टेबल की लंबाई 180 सेंटीमीटर से 200 सेंटीमीटर के बीच होनी चाहिए।

फर्नीचर की गुणवत्ता

फर्नीचर की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए:

प्राइमरी
  • फर्नीचर टिकाऊ और मजबूत होना चाहिए।
  • फर्नीचर की फिटिंग अच्छी होनी चाहिए।
  • फर्नीचर का रंग और डिजाइन आकर्षक होना चाहिए।

फर्नीचर के रखरखाव

फर्नीचर को अच्छी तरह से रखरखाव करने से उसका जीवनकाल बढ़ जाता है। फर्नीचर के रखरखाव के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • फर्नीचर को नियमित रूप से साफ करना चाहिए।
  • फर्नीचर को नमी से बचाना चाहिए।
  • फर्नीचर को धूप में नहीं रखना चाहिए।

निष्कर्ष

प्रधानमंत्री जन विकास योजनान्तर्गत जनपदों के प्राइमरी स्कूलों में फर्नीचर की व्यवस्था हेतु धनराशि का व्यय सावधानीपूर्वक किया जाना चाहिए। धनराशि का व्यय करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • धनराशि का व्यय स्कूलों की वास्तविक जरूरतों के अनुसार किया जाना चाहिए।
  • फर्नीचर की खरीद करते समय गुणवत्ता पर ध्यान दिया जाना चाहिए।
  • फर्नीचर को अच्छी तरह से रखरखाव किया जाना चाहिए।

admin

Up Secondary Education Employee ,Who is working to permotion of education

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *