नेहरू युवा केंद्र में सोमस शिक्षक महासभा का चिंतन शिविर सम्पन्न

शिविर

 नेहरू युवा केंद्र में सोमस शिक्षक महासभा का चिंतन शिविर सम्पन्न

शिक्षक महासभा का चिंतन शिविर सम्पन्न : आज अनुसूचित जाति जनजाति पिछड़ा एवं अल्पसंख्यक शिक्षक महासभा के प्रदेश कार्यकारिणी के द्वारा एक दिवसीय चिंतन शिविर का आयोजन राष्ट्रीय नेहरू युवा केंद्र बड़ा इमामबाड़ा लखनऊ में संपन्न हुई , कार्यक्रम की शुरुआत प्रातः 11 बजे बोधिसत्व बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर एवं तथागत बुद्ध की पूजा अर्चना से हुई, 

शिविर

चिंतन शिविर अध्यक्षता शिक्षक महासभा के प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर सुंदर दास शास्त्री ने किया।  कार्यक्रम का संचालन सोम शिक्षक महासभा के महामंत्री डॉक्टर बृजेश भारती ने किया ,इस कार्यक्रम को प्रदेश उपाध्यक्ष डॉक्टर छोटेलाल ने संबोधित करते हुए, शिक्षक महासभा की स्थापना और उपलब्धियों पर प्रकाश डाला, प्रदेश संयोजिका रुमा मैडम ने  महासभा को सशक्त बनाने पर जोर दिया,

 इसके अतिरिक्त प्रदेशीय कोषाध्यक्ष डॉक्टर जयपाल शास्त्री,सोमवीर सिंह, बृजेश कुमार गौतम और विभिन्न जनपदों और मंडलों से आए हुए मंडल अध्यक्षों और जिलाध्यक्ष जिला मंत्री और अन्य पदाधिकारियों ने शिक्षक महासभा को संबोधित किया, इस बैठक में वर्ष भर आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों और रणनीतियों पर चर्चा परिचर्चा कर  प्रदेश संगठन के द्वारा किए जाने वाले कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की गई ।

 उपस्थिति पदाधिकारियों ने शिक्षक महासभा को और अधिक मजबूत बनाने के लिए   हुंकार भरी शिक्षक महासभा के अयोध्या मंडल के अध्यक्ष डॉ रविंद्र कुमार कश्यप ग्रेसियस ने महामंत्री डाक्टर बृजेश भारतीय को 13 सूत्रीय सुझाव पत्र दिया जिसे किर्यान्यवन हेतु स्वीकार किया गया,  अयोध्या मंडल   के उपाध्यक्ष रामचेत गौतम जनपद अंबेडकरनगर के जिला अध्यक्ष रामकमल, जिला मंत्री राजित राम जिला कोषाध्यक्ष कमल नारायण संगठन मंत्री रामकुमार ने शिक्षक महासभा को संबोधित किया ,सुल्तानपुर जनपद के जिला अध्यक्ष ओमकारनाथ भारती ने सभी विद्यालयों का भ्रमण कर नए शिक्षकों को जोड़ ने पर जोर दिया उनके साथ में आए हैं सुल्तानपुर जनपद के जिला मंत्री राजेश कुमार ने शिक्षक महासभा के और अधिक सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्धता प्रकट की इसके अतिरिक्त लखनऊ मंडल अध्यक्ष मनोज कुमार, प्रदेश पदाधिकारी राम निरंजन शास्त्री,प्रान्तीय संरक्षक राम बीर सिंह सहित सैकड़ों शिक्षक साथियों ने संबोधित किया, कार्यक्रम का समापन डॉक्टर सुंदर दास शास्त्री जी के अध्यक्षीय भाषण से हुई।

नेहरू युवा केंद्र ने हाल ही में सोमस शिक्षक महासभा का आयोजन किया, जिसका चिंतन शिविर संपन्न हुआ। इस अद्भुत घटना ने शिक्षकों को एक साथ आने और शिक्षा के क्षेत्र में नए दिशानिर्देश स्थापित करने का मौका दिया। इस चिंतन शिविर के माध्यम से सोमस शिक्षकों को समर्पित करने का एक नया संकल्प दिखा और शिक्षा में सुधार की दिशा में कदम बढ़ाने का एक सामर्थ्यपूर्ण प्लेटफॉर्म प्रदान किया।

महत्वपूर्ण आयोजन:

सोमस शिक्षक महासभा का चिंतन शिविर नेहरू युवा केंद्र में आयोजित किया गया। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य शिक्षकों के बीच एक जनसमृद्ध और नवीन सोच का संचार स्थापित करना था। चिंतन शिविर के दौरान विभिन्न शिक्षा क्षेत्रों से आए विशेषज्ञों ने अपने अद्वितीय अभिप्रेत और अनुभवों को साझा किया, जिससे शिक्षकों को नई परिष्कृत सोच और शिक्षा में सुधार की राह प्रदान हुई।

चिंतन शिविर के आयोजन की कठिनाईयाँ और सफलता:

इस चिंतन शिविर का आयोजन करना किसी भी संगठन के लिए एक बड़ी चुनौती हो सकती है, लेकिन नेहरू युवा केंद्र ने इसे सफलता से संपन्न किया। सबसे पहले, वे एक महत्वपूर्ण थीम चयन करने में सफल रहे, जो शिक्षा के क्षेत्र में नए परिवर्तनों और नीतियों को ध्यान में रखती है। शिक्षकों के बीच ऐसे एक विषय पर विचार-विमर्श का आयोजन करने से, नई और विशेषज्ञ दृष्टिकोण से सिद्धांतों की चर्चा होने में सुनिश्चित हुआ।

विशेष विषयों पर विचार-विमर्श:

चिंतन शिविर में विशेष विषयों पर विचार-विमर्श का आयोजन किया गया, जिसमें शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए नए दृष्टिकोण और उपायों की चर्चा हुई। शिक्षा के संबंध में नए तकनीकी उपाय, नई शिक्षा मॉडल्स, और छात्रों की समृद्धि के लिए नए प्रेरणास्त्रोतों की चर्चा होने से सभी शिक्षकों को एक सामूहिक उत्साह मिला।

अनुभवशाली वक्ताओं की उपस्थिति:

चिंतन शिविर में विभिन्न शिक्षा क्षेत्रों के अनुभवशाली व्यक्तियों की उपस्थिति ने इसे और भी अधिक गुणवत्ता से भरा बनाया। इन विशेषज्ञों ने अपने अनुभवों से शिक्षकों को प्रेरित किया और उन्हें नई दिशा में सोचने के लिए प्रेरित किया।

NPS कटौती करने हेतु लगाएंगे कर्मचारियों के नियम विरुद्ध कृत्य पर कार्रवाई करने के संबंध में

चिंतन शिविर के समापन में, सोमस शिक्षक महासभा ने एक सशक्त और सकारात्मक संदेश दिया कि शिक्षा से जुड़े हर व्यक्ति का समर्थन और सहयोग अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस चिंतन शिविर ने शिक्षकों को समर्थन और समर्पण के साथ कार्य करने के लिए प्रेरित किया और नई ऊँचाइयों की ओर एक कदम और बढ़ने का मौका दिया। इस समर्थन और समृद्धि के माहौल में, सोमस शिक्षक महासभा का चिंतन शिविर सफल रूप से संपन्न होने के बाद भविष्य में भी इसी तरह के आयोजनों को बढ़ावा मिलेगा, जो शिक्षा के क्षेत्र में नई ऊर्जा और नए दिशानिर्देश स्थापित करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *